ब्रेकिंग
18 मई 2021 का राशिफल जानिये आचार्य कौशलेन्द्र जी से शादी समारोहों में अब केवल 25 लोगों की होगी मौजूदगी यूपी के मंत्री की कोरोना से मौत, चरथावल से चुने गये थे विधायक गुण्डों द्वारा सरेआम पत्रकार की पिटाई को मामूली धाराओं में निपटाना चाहती है पुलिस चुनावी रंजिश भूलकर शांति बनाये रखें, वरना सख्ती से निपटेगी पुलिस दाने दाने को मोहताज था परिवार, एसओ रूधौली ने दिखाई दरियादिली बेलहिया हत्याकांड में 3 और गिरफ्तार पत्रकार पर हुये प्राणघातक हमले में स्टोरी प्लान्ट करने में जुटा प्रशासन, पीड़ित ने तहरीर देकर मांगा न्याय साथी को रिहा कराने में एकजुट हुये पत्रकार, मामूली धारा में एसडीएम ने भेजा था जेल चौ. अजीत सिंह की तेरहवीं पर राजा ऐयवर्यराज सिंह सहित समर्थकों ने दी श्रद्धांजलि

बस्ती चेतना में आप का स्वागत है। बस्ती चेतना पर विज्ञापन देकर सस्ते दरों का लाभ उठायें। संपर्क 7007259802

बीडीए की मनमानी से त्रस्त हैं शहरी क्षेत्र के लोग

0 34

बस्तीः बस्ती विकास प्राधिकरण के अधिकारियों की मनमानी से पूरा शहर परेशान है। आवास विकास मोहल्ले के रहने वाले समाजिक कार्यकर्ता अपूर्व शुक्ल ने अधिकारियों की मनमानी से आहत होकर शिकायत किया है। अपूर्व के मुताबिक वे आवास विकास मोहल्ले में सांई मन्दिर के निकट के रहने वाले हैं। मोहल्ले में उनका पैतृक मकान है।

 

वर्ष 1982 में मानचित्र बनवाकर मकान का निर्माण करवाया गया थां। मकान पुराना होने के कारण इसे फिर से बनवा रहे थे। इसी बीच बीडीए के अधिकारियों को भनक लगी और वे मनमानी पर उतर आये जबकि मकान का जीर्णोद्धार पुराने नक्शे पर ही कराया जा रहा है। इसे अवैध बताते हुये 03 फरवरी को नोटिस भेज दिया जिसमे लिखा गया कि 7 दिनों के अंदर शमन मानचित्र प्रस्तुत न करने पर मकान सील कर दिया जायेगा। जबकि इससे पहले 03 फरवरी को अधिकारियों को दिये जवाब में अपूर्व शुक्ला ने स्थिति स्पष्ट करते हुये जानकारी दी कि निर्माण पुरानी मानचित्र पर ही हो रहा है।

 

फिलहाल 7 दिन का मौका दिया गया जो 10 फरवरी को पूरा होता। इससे पहले ही बीडीए के पंकज पाण्डेय अधिशाषी अभियन्ता और आरसी शुक्ला जेई पुलिस बल के साथ मौके पर पहुंच गये और मकान सील कर दिया। अपूर्व सहित आसपास के लोग विरोध पर उतर आये, कार्यवाही की फोटोग्राफी करने लगे। इसी बीच उन्हे अपनी गलती का अहसास हुआ और वे सीलिंग खोलकर आनन फानन में चले गये।

 

नोटिस फाड़ दिया और मकान के ऊपर लिखी सीलिंग की कार्यवाही को मिटा दिया। अपूर्व का कहना है कि अधिकारियों की मनमानी से पूरे मोहल्ले में बेइज्जती हुई, तनाव और मानसिक पीड़ा झेलनी पड़ी। समाजसेवी अपूर्व शुक्ल का कहना है कि बीडीए की ओर से शहर में सुविधा के नाम पर कुछ नही दिया है लेकिन विभागीय कार्यवाही के नाम पर लोगों को डराना, धमकाना और धनउगाही करना इनकी आदतों में शुमार है। उन्होने कहा बीडीए ने अपनी कार्यवाहियों में सुधार नही किया तो चरणबद्ध संघर्ष होगा और क्रमवार अधिकारियों की मनमानी बेनकाब की जायेगी।

- Advertisement -

Government Ad
Leave A Reply

Your email address will not be published.